सच की राह आसान नहीं होती मगर's image
Poetry1 min read

सच की राह आसान नहीं होती मगर

Abasaheb MhaskeAbasaheb Mhaske March 1, 2022
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes

किस मिटटी के बने हो यार 


मारपीट लड़ाई झगड़े 

क्यों करता हैं दंगे फसाद 

क्या साथ लाया था जो तूने खो दिया 

इकदिन यही छोड़कर जाना होगा 


तू अच्छा बेटा बना

न किसीका भैया 

तू अच्छा पिता बना 

न किसीका सैंय्या 


तू अच्छा इंसान बना 

न सच्चा देशभक्त 

अपने छोड़े न बेगाने 

सिर्फ मतलबी बना 


क्यों व्यर्थ घमंड करते हो 

क्यों सबका दुशमन बना ?

न कभी प्यार का रिश्ता निभाया 

बेवजह तना जाने अनजाने में 


अभी भी वक्त हैं प्यारे ,दुलारे 

तुम्हे अच्छा इंसान बनना होगा 

सच की राह आसान नहीं होती मगर 

नामुमकिन भी नहीं होती कभी सोच ले 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts