आमों की तारीफ़ में – ग़ालिब

हाँ दिल-ए-दर्दमंद ज़म-ज़मा साज़ क्यूँ न खोले दर-ए-ख़ज़िना-ए-राज़ ख़ामे का सफ़्हे पर रवाँ होना शाख़-ए-गुल का है गुल-फ़िशाँ होना मुझ से क्या पूछता है क्या लिखिये नुक़्ता हाये ख़िरदफ़िशाँ लिखिये बारे, आमों का कुछ...