Tagged: Hindi Poetry

हम चौरे कै पसावन होई 0

हम चौरे कै पसावन होई

हम चौरे कै पसावन होई, फूटी किस्मत के जगावन होई ।। रास्ते के धूल पै बादल के आंसू बनकै, हम धूल कै बुझावन होई। हम चौरे कै पसावन होई ।। जब केहू दुख में...

ख़्वाहिशों ने कभी हिमाक़त नहीं की….. 1

ख़्वाहिशों ने कभी हिमाक़त नहीं की…..

धूप को सदा छिप कर ही देखा सहमा उजाला रात में रखा है ख़्वाहिशों ने कभी हिमाक़त नहीं की ज़रूरतों ने इन्हें औक़ात में रखा है तुझे परदे का शौक़ है तो मेरी क़लम...

मोहब्ब्त क्या है.. 0

मोहब्ब्त क्या है..

मोहब्बत का उसूल क्या है मेरी हकीक़त क्या है मुझमे दफ़न मेरी खामोसी क्या है जो तुझ तक ना पहोंचे मेरे दिल की धड़कन वो धड़कन ही क्या है बंद कमरे मैं घुटती इस...

ख़्वाहिश बेहिसाब लिखती है… 0

ख़्वाहिश बेहिसाब लिखती है…

  ख़्वाहिश बे-हिसाब लिखती है, मेरे ख़तों के जवाब लिखती है !! वो नहीं लिखते तो क्या हुआ, ख़्वाहिश लाजवाब लिखती है !! गुल-फ़िशाँ से महकता चमन, क़बा-ए-गुल शबाब लिखती है !!  

ताकत कलम की 0

ताकत कलम की

हे भारत के वीर युवाओं, कर लो नमन माँ सरस्वती को, दिखा दो ताकत दुनियाँ को, कितनी शक्ति है तेरे कलमों में!! कोई बाँट ना पाये हमको, ऐसा इतिहास लिखो युवाओं, हर घर में...

क़ायल 0

क़ायल

सभी मेरे अदब के अन्दाज़ के क़ायल है, वो दीगर बात, इन कंधो को ज़िंदगी की हसरतों के बोझ ने झुका दिया। लोग मेरे ख़ुशी के आसूँ पर रस्क़ करते है, वो अनजान नहीं...

ज़िंदगी- भूल से सुकून तक 0

ज़िंदगी- भूल से सुकून तक

तेरी भूल को भूल न बुलाए कोई, सुबह को बदल मैंने शाम कर दिया, न करे इस क़दर कोई तेरे नाम को रुसवा, कमाया हर नाम मैंने तेरे नाम कर दिया। दर्द हँसे तो...

परिन्दे 0

परिन्दे

  Main parinda hun ! Udne do nabh mein, Ke sundar kshitiz hame bulati hain. Uda jo main kshitiz ko pane, Liye ek armaan, pankho ko pasaar, Ya toh apni iss neel gagan ko...

ज़िन्दगी 0

ज़िन्दगी

कई तंग गलियों से चुपचाप गुज़र जाती है, ज़िंदगी किताबों में कुछ और पढ़ी थी हमने।  

Please wait...

Never Miss Any Poetry, Join Our Family

Want to be notified when any New Poetry Published? Enter your email address and name below to be the first to know.