Kavishala Lucknow Meetup | December’2017

« 2 of 2 »
कविशाला मीटअप का आयोजन १७ दिसंबर को लखनऊ के गोमती नगर स्थित शीरोज हैंगआउट में किया गया, जिसमे करीब ७० कवियों और कविता प्रेमियों ने हिस्सा लिया! कविता विभिन्न मुद्दों पर पढ़ी गयी जिसमे प्रमुख मुद्दा पांच साल पहले हुआ निर्भया और महिलाओ पर हो रहा उत्पीड़न रहा !
कविता सबसे सरल माध्यम है अपने विचारो को जनता और समाज तक पहुचाने का, विचार सकारात्मक हो या नकारात्मक जनता आसानी से स्वीकार कर लेती है!
कविशाला हमेशा से नए और अनसुने कवियों के लिए एम् अच्छा बनाने का प्रयास करता रहता है, उसी क्रम में हर मीटअप में एक छोटी से वर्कशॉप होती है जिसमे कविता की कमियों और अच्छाइयों पैट बात होती है!
इस मीटअप में निमल दर्शन और पंकज प्रसून ने नए कवियों को बताया उन्हें कविता लिखने से कविता प्रेजेंट करने तक का सफर कैसे तय करना चाहिए ! उन्होंने उन छोटी छोटी भाषायी त्रुटियों पर भी विचार विमर्श किया!
कविता का कवितामयी ज्ञान का लुफ्त नए कवियों नो खूब उठाया और उसे घर लेकर गए !
कविशाला की शुरुआत डेढ़ साल पहले अंकुर मिश्रा ने दिल्ली से की थी, जिसका प्राथमिक उद्देश्य नए कविया की कविताये ऑनलाइन लाना था मगर मार्च २०१७ से कविशाला ने कविता के हर पहलू पर ध्यान देना शुरू कर दिया !
“कविशाला से कोई भी जुड़ सकता है, यह किसी व्यक्ति विशेष की संस्था नहीं है! कविशाला एक ऐसी संस्था जो केवल और केवल साहित्य के लिए काम कर रही है अगर आप ईमानदारी से साहित्य के लिए काम करना चाहते है तो कविशाला में आपका स्वागत है”- अंकुर मिश्रा
लिखते रहिये आदत बुरी नहीं है !!
Please wait...

Never Miss Any Poetry, Join Our Family

Want to be notified when any New Poetry Published? Enter your email address and name below to be the first to know.