Dushyant Kumar

जीवन परिचय – (विकिपीडिया से)

andhere-ka-deepak-harivansh-rai-bachchan

दुष्यंत कुमार त्यागी (१९३३-१९७५) एक हिन्दी कवि और ग़ज़लकार थे।

दुष्यंत कुमार उत्तर प्रदेश के बिजनौर के रहने वाले थे। जिस समय दुष्यंत कुमार ने साहित्य की दुनिया में अपने कदम रखे उस समय भोपाल के दो प्रगतिशील शायरों ताज भोपाली तथा क़ैफ़ भोपाली का ग़ज़लों की दुनिया पर राज था। हिन्दी में भी उस समय अज्ञेय तथा गजानन माधव मुक्तिबोध की कठिन कविताओं का बोलबाला था। उस समय आम आदमी के लिए नागार्जुन तथा धूमिल जैसे कुछ कवि ही बच गए थे। इस समय सिर्फ़ ४२ वर्ष के जीवन में दुष्यंत कुमार ने अपार ख्याति अर्जित की।

निदा फ़ाज़ली उनके बारे में लिखते हैं

“दुष्यंत की नज़र उनके युग की नई पीढ़ी के ग़ुस्से और नाराज़गी से सजी बनी है। यह ग़ुस्सा और नाराज़गी उस अन्याय और राजनीति के कुकर्मो के ख़िलाफ़ नए तेवरों की आवाज़ थी, जो समाज में मध्यवर्गीय झूठेपन की जगह पिछड़े वर्ग की मेहनत और दया की नुमानंदगी करती है। ”
कृतियाँ
इन्होंने ‘एक कंठ विषपायी’ (काव्य नाटक), ‘और मसीहा मर गया’ (नाटक), ‘सूर्य का स्वागत’, ‘आवाज़ों के घेरे’, ‘जलते हुए वन का बसंत’, ‘छोटे-छोटे सवाल’ (उपन्यास), ‘आँगन में एक वृक्ष, (उपन्यास), ‘दुहरी जिंदगी’ (उपन्यास), मन के कोण (लघुकथाएँ), साये में धूप (गजल) और दूसरी गद्य तथा कविता की किताबों का सृजन किया।

प्रमुख कविताएँ
‘कहाँ तो तय था’, ‘कैसे मंजर’, ‘खंडहर बचे हुए हैं’, ‘जो शहतीर है’, ‘ज़िंदगानी का कोई’, ‘मकसद’, ‘मुक्तक’, ‘आज सड़कों पर लिखे हैं’, ‘मत कहो, आकाश में’, ‘धूप के पाँव’, ‘गुच्छे भर’, ‘अमलतास’, ‘सूर्य का स्वागत’, ‘आवाजों के घेरे’, ‘जलते हुए वन का वसन्त’, ‘आज सड़कों पर’, ‘आग जलती रहे’, ‘एक आशीर्वाद’, ‘आग जलनी चाहिए’, ‘मापदण्ड बदलो’, ‘कहीं पे धूप की चादर’, ‘बाढ़ की संभावनाएँ’, ‘इस नदी की धार में’, ‘हो गई है पीर पर्वत-सी’।

दुष्यंत कुमार की कवितायें 

कुंठा – दुष्यंत कुमार

मेरी कुंठा रेशम के कीड़ों-सी ताने-बाने बुनती, तड़प तड़पकर बाहर आने को सिर धुनती, स्वर से शब्दों से भावों से औ’ वीणा से कहती-सुनती, गर्भवती है मेरी कुंठा –- कुँवारी कुंती! बाहर आने दूँ...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

चीथड़े में हिन्दुस्तान – दुष्यंत कुमार

एक गुडिया की कई कठपुतलियों में जान है, आज शायर ये तमाशा देख कर हैरान है। ख़ास सड़कें बंद हैं तब से मरम्मत के लिए, यह हमारे वक्त की सबसे सही पहचान है। एक...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

तुमको निहरता हूँ सुबह से ऋतम्बरा – दुष्यंत कुमार

तुमको निहारता हूँ सुबह से ऋतम्बरा अब शाम हो रही है मगर मन नहीं भरा ख़रगोश बन के दौड़ रहे हैं तमाम ख़्वाब फिरता है चाँदनी में कोई सच डरा—डरा पौधे झुलस गए हैं...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

दो पोज़ – दुष्यंत कुमार

सद्यस्नात तुम जब आती हो मुख कुन्तलों से ढँका रहता है बहुत बुरे लगते हैं वे क्षण जब राहू से चाँद ग्रसा रहता है । पर जब तुम केश झटक देती हो अनायास तारों-सी...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

अपनी प्रेमिका से – दुष्यंत कुमार

मुझे स्वीकार हैं वे हवाएँ भी जो तुम्हें शीत देतीं और मुझे जलाती हैं किन्तु इन हवाओं को यह पता नहीं है मुझमें ज्वालामुखी है तुममें शीत का हिमालय है फूटा हूँ अनेक बार...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

फिर कर लेने दो प्यार प्रिये – दुष्यंत कुमार

अब अंतर में अवसाद नहीं चापल्य नहीं उन्माद नहीं सूना-सूना सा जीवन है कुछ शोक नहीं आल्हाद नहीं तव स्वागत हित हिलता रहता अंतरवीणा का तार प्रिये .. इच्छाएँ मुझको लूट चुकी आशाएं मुझसे...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

चीथड़े में हिन्दुस्तान – दुष्यंत कुमार

एक गुडिया की कई कठपुतलियों में जान है, आज शायर ये तमाशा देख कर हैरान है। ख़ास सड़कें बंद हैं तब से मरम्मत के लिए, यह हमारे वक्त की सबसे सही पहचान है। एक...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

आज सड़कों पर लिखे हैं सैंकड़ों नारे न देख :- दुष्यंत कुमार

आज सड़कों पर लिखे हैं सैंकड़ों नारे न देख घर अँधेरा देख तू, आकाश के तारे न देख। एक दरिया है यहाँ पर दूर तक फैला हुआ आज अपने बाजुओं को देख पतवारें न...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

मैं जिसे ओढ़ता -बिछाता हूँ :- दुष्यंत कुमार

मैं जिसे ओढ़ता -बिछाता हूँ वो गज़ल आपको सुनाता हूँ। एक जंगल है तेरी आँखों में मैं जहाँ राह भूल जाता हूँ तू किसी रेल सी गुजरती है मैं किसी पुल -सा थरथराता हूँ...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

इस नदी की धार में – दुष्यंत कुमार

इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है एक चिनगारी कहीं से ढूँढ लाओ दोस्तों इस दिए में तेल से भीगी हुई बाती...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए :- दुष्यंत कुमार

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए हर सड़क पर, हर...

Written By Dushyant Kumar | Your Feedback