Category: Rajesh Tanwar

क्या कहा तुम्हे भी अब तनहाई सताती है 0

क्या कहा तुम्हे भी अब तनहाई सताती है

क्या कहा तुम्हे भी अब तनहाई सताती है, फिर होले से इक ख्वाईश सिर उठाती है… और डाँट से अपनी इसे चुप करा देते हो, आवाज इसकी कण्ठ मे ही रुँध जाती है… रूह...

चाँद में दाग है तो रहने दो 0

चाँद में दाग है तो रहने दो

चाँद में दाग है तो रहने दो, कौन कहता है इसे कंचनी दर्पण कहो.. अच्छे हैं वो जिनमे कुछ कमी है, वजह यही कि इनके कदमों तले सदा जमी है… इस कमी से काम...

ये तेरी आँखे बता रही हैं 2

ये तेरी आँखे बता रही हैं

ये तेरी आँखे बता रही हैं , कुछ तो खोया इन्होंने भी है…. जागी है किसी की याद में, अब ज़िद ख्वाब सँजोने की है… ढलकाये थे कुछ पावन मोती, अब कोशिश उन्हें पिरोने...

सच है चंद सिक्के किसी मुर्दे में साँस नही जोड़ सकते 0

सच है चंद सिक्के किसी मुर्दे में साँस नही जोड़ सकते

सच है चंद सिक्के किसी मुर्दे में साँस नही जोड़ सकते, फिर ये क्यों है कि मुफलिसी किसी का दम ही घोट दे. क्यूँ लोग पैसों की खातिर साँसों का व्यापार करते हैं, क्यूँ...

यूँ खुद को इतना भी न तरसाया कर 0

यूँ खुद को इतना भी न तरसाया कर

यूँ खुद को इतना भी न तरसाया कर कभी -कभी बारिश में भीग जाया कर… आसमा से फरिश्ते ज़मी पे नही आते, किसी इंसान से ही सब कह जाया कर… हवा खोल के खिड़की...

सुकमा के एक शहीद की नन्ही बेटी का खत 4

सुकमा के एक शहीद की नन्ही बेटी का खत

प्यारे पापा कई दिनों से आपका फ़ोन नही आ रहा, और पोस्टमैन भैया कोई लैटर भी नही ला रहा… पापा रिजल्ट आया था परसों मेरा आपको बताना था, पर में सेकंड आयी हूँ फिर...