एतबार

हस्ती पे तेरे उसे, आज भी एतबार नहीं ‘नीरज’ ! इधर तू उसे, अपनी रग़ों में बहता ढूंढ रहा है !! . – नीरज ‘पार्वती’