Category: Kavishala

zindagi me ehmiyat! 0

zindagi me ehmiyat!

Dil se yaado ka kafila hatata nahi Toofan ke jaroke jaisi yaadein aati aur dil se dimag tak bikhar jati Soch kar kai sawal uffan aate Kya zindagi issi ka naam hai? Kyo log...

ये राग मोहब्बत का 0

ये राग मोहब्बत का

प्रेम की नगरी मे बेमोल बिक गया जाया, हारकर सबकुछ मेरे हाथ एकांत आया! हर महफिल अपनी टूटन का सहारा पाकर , ये राग मोहब्बत का दर-दर गाया !!   गजलो गीतो को सुन...

रंग-बिरंगे उड़नखटोले 0

रंग-बिरंगे उड़नखटोले

आते है मुझे सपनें अक्सर रंग-बिरंगे उड़नखटोलों के नीचे सफ़ेद रेतीली धरती ऊपर चमचमाते उड़नखटोले, लाल गुलाबी पीले फूल नाजुक-सी जिन पर इठलाती तितलियाँ जगमग-जगमग लालटेनें लगी है हवा के संग लहराते झालर, रोशन...

समंदर की लहरो को 0

समंदर की लहरो को

सर्द तूफानी मौसम मे पेडो से, टूटकर गिरे पत्तो का जिक्र कहाँ है! चौतरफा सितारो से घिरे चाँद को, टूटकर गिरते इक तारे की फिक्र कहाँ है!! सुगंध फैलाती उस गुलाब की महक मे,...

0

उम्मीद

उम्मीद मुझे है ये, कल एक नया सवेरा लेकर आयेगा, इन फैले अंधियारो में, सूरज प्रभात की किरणें लेकर आयेगा, कल जब मै जागूंगा, एक नयी प्रभा के दर्शन होंगे, मेरी पलकों के कोरो पर,...

रोटी और राजनीति 0

रोटी और राजनीति

सुबह जब निकला मैं गंतव्य को जाने के लिए! एक श्वान परिवार लगा रहा था, कचरे के ढेर के आसपास चक्कर, ताकि मिल जाए कुछ खाने के लिए! देखा कुछ देर बाद तो, माता...

कथा हिन्दुस्तान की 0

कथा हिन्दुस्तान की

एक दिन जब हमारे संस्थान में, जब कुत्ते हो गए थे बहुत ज्यादा! भौंकने तक तो सही था परन्तु अब, वो सारे काटने को हो गए थे आमादा! तब हमने ये किया “डीसाईड” कि...

अतिश्योक्तियां 0

अतिश्योक्तियां

मांस-मदिरा निषेध हेतु कार्यक्रम किया गया आयोजित, जो कि था शहर के मदिरा-किंग के द्वारा ही प्रायोजित! मांग थी कि सभी तमोगुणी चीज़ों का उपभोग बंद करें, डिसाइड हुआ कि इसी ख़ुशी में चिकन...

इस पाप की डगर पे 0

इस पाप की डगर पे

इस पाप की डगर पर नेता दिखाओ चल के, ये देश है तुम्हारा खा जाओ इसको तल के! अच्छाइयों को रखना सदा यूँही सिराहने, दिखे जहाँ पे पैसे आ जाना उनको खाने! बदहज़मी हो...