Category: Atul Pratap

तुम हो…तो खुश हूं 1

तुम हो…तो खुश हूं

मेरे हर एक दुख में तुम हसी बन कर आए हो.. मेरी रूखी आंखो मे तुम खुशी के आसुओं  का ठिकाना लेकर आए हो.. हसी के सातों रंगो में डूबा है मेरा जहां.. इन...

मिला नहीं है अभी मिलना बाकी है 2

मिला नहीं है अभी मिलना बाकी है

मिला नहीं है_अभी मिलना बाकी है इन मंजिलों का तेरे क़दमों में झुकना बाक़ी है कर यकीन तू खुद पे_अभी बहुत कुछ होना बाकी है बिन रुके तू चला चल_अभी इन हवाओं का बदलना...

आ रहा हूं 0

आ रहा हूं

आ रहा हूं तेरी ख्वाइश बन कर टूटता तारा बन कर तेरी आंखो का सितारा बन कर तेरी राहों का हमराही बन कर चलना है तेरे साथ तेरा हमसफ़र बन कर।।  

मोहब्बत ऐ पहली दफा 2

मोहब्बत ऐ पहली दफा

मोहब्बत ऐ पहली दफा तेरी तरफ आया हूं.. तभी तो तेरी ज़िंदगी में आया हूं.. आशिक़ तो देखे होंगे तूने बहुत पर में अपनी आशिक़ी में कुछ खास लेकर आया हूं..।।  

बरबादी के मंजर तक… 6

बरबादी के मंजर तक…

बरबादी के मंजर तक चला हूं.. जो हो ना पसंद लम्हा उस लम्हें से भी मिला हूं.. इन्हीं काफिलों में बिछड़ा है मेरा बसेरा.. एक दिन इन्हीं काफिलों में उगेगा मेरा नया सवेरा..।।

लफ़्ज़ों ने है ऐसे राज… 4

लफ़्ज़ों ने है ऐसे राज…

लफ़्ज़ों ने है ऐसे राज मेरे खोले.. जो सदियों से थे मेरे साथ खड़े.. वो भी है मेरे खिलाफ खड़े.. थे हम बैठे जिसे हसीन वक़्त माने.. अब उसी वक़्त से है नजरों को...