Category: Akib Javed

लिख दूँ! 0

लिख दूँ!

अब बता तुझे क्या क्या लिख दूँ? सुबह लिख दूँ,कि शाम लिख दूँ! दिल के हर कोने में तेरा नाम लिख दूँ, क्या पानी में लिख दूँ,कि शायरी ही लिख दूँ! अपनी गज़ल में...

वो विधवा! 0

वो विधवा!

मृगनैनी सी,रूपवती सी, चाँद,सलोने से मुखड़े सी, वो सूंदर स्त्री,जवानी में ही, हो गयी वो विधवा! घाट किनारे,नदियों के पास, पता नही क्या सोच रही थी? वो विधवा! आते जाते निहार रही थी, देख...

फूल 0

फूल

बगिया से फूल तोड़कर देखो माली आ गया था, फूलो के बीच देखो, कितना रोष छा गया था! काँटो के सेज में भी रहकर, वो कितना खुश था! माली ने तोड़कर उसे प्रभु में...

वो गरीब जो थी! 0

वो गरीब जो थी!

उस माँ को बच्चे की फ़िक्र थी, जो कल रात बीमार था! ना थे पैसे, ना थी दवा, और करती भी क्या, वो गरीब जो थी! दिन भर मजदूरी करती, थक हार के घर...

वो छोटा बच्चा! 0

वो छोटा बच्चा!

भीषण गर्मी में, खेतो में,मेड़ो में, देखा कुछ ऐसा, मन ही मन सोच में पड़ा, वो छोटा बच्चा! कैसे करते हैं यह काम, बिना थके,बिना आराम, लगातार वो भी बेनाम, मन ही मन सोच...

मेरे सुपर हीरो 0

मेरे सुपर हीरो

जिसने हमको जन्म दिया, वो हैं प्यारी माँ! जिसने हमको पाला-पोसा वो हैं हमारे पिता! दोनों ने मिलकर सँवारा, मेरा ये प्यारा जँहा! हमको उनकी सेवा करना सदा, ना दिल दुःखे उनका यदा कदा!...

रफ्ता रफ्ता गुज़र रही जिंदगी 0

रफ्ता रफ्ता गुज़र रही जिंदगी

रफ्ता रफ्ता गुज़र रही जिंदगी ये जिंदगी हैं,गुज़रती ही नही हैं! ख्वाइशें हैं थोड़ा उम्मीद भी लेकिन हासिल कुछ भी नही हैं! बहुत कुछ छुपाए,कुछ ना कहा बाते तुम्हारी,बातो में कुछ भी नही हैं!...

हे प्रिये! 0

हे प्रिये!

हे प्रिये! तुमने क्यू ना ध्यान दिया, मेरा दिल ऐसे तोड़ दिया। बातो ही बातो में सब कुछ, ऐसा बोल दिया। सुनो ना तुम! शब्दो का क्यू ना मोल किया, उन शब्दों को ऐसे...

ठण्ड और अहसास 0

ठण्ड और अहसास

मौसम ने अपना मिजाज बदल लिया, क्या तुमने भी खुद को बदल लिया! वो ठण्ड राते! याद हैं ना तुम्हे! तुम्हारी वो तेज चलती गर्म सांसे युही नही चल रही थी। कोई तो वजह...

प्यार से रहना सिखाये अपने दयार को 0

प्यार से रहना सिखाये अपने दयार को

फूलो की खुश्बू महकायेगी बयार को प्यार की चहक चाहकाएंगी दयार को। एक इश्क की लौ लगा लो तुम जरा प्यार से गले लगा लो तुम प्यार को। होती हो बदगुमानी गर तुमको अब...