Category: Akash Jha

अनमोल हिन्दी 0

अनमोल हिन्दी

आज हिन्दी का कोई मोल नही.. ज़िसे बचपन मे हमने सीखा था..! माता पिता ने ज़िस भाषा से हमे.. बड़े प्यार से सींचा था..! आज खों गयी हैं हिन्दी आपने ही हिन्दुस्तान में.. भटक...

नाउम्मिदी से आजादी 0

नाउम्मिदी से आजादी

आजादी नाउम्मिदी से पाओ.. सोयी हुई आशाओं फिर से जगाओ.! आग लगा दो नाउम्मिदी को.. उठो.. पुरी ताकत से आगे जाओ.! प्रायास से पुरी होती हैं हर मानोकामना.. हारो मत काठीनायों से.. करो उनका...

बेखबर प्यार.. 0

बेखबर प्यार..

तुम सोंती रही बेखबर.. हम सारी रात जागते रहे .. तुमहे देखने की अरमान लिये .. नींद से दूर भागते रहे .. बिखेरी जब जब हावाओं ने जूल्फे तुम्हारी .. ज़िस्म से निकल आती...

Mother Nature 0

Mother Nature

Magical spot in this big UNIVERSE Is the only our beautiful Earth… Life exists on this Sphere On land, in water & everywhere… Humans, plants & Animals lives together Forming an Ecosystem and depending...

Please wait...

Never Miss Any Poetry, Join Our Family

Want to be notified when any New Poetry Published? Enter your email address and name below to be the first to know.