Category: Ajay Kishor

आईना 0

आईना

आईने में मैंने देखा तो बस तेरा चेहरा था। तेरे मेरे प्यार पर फ़क़त पहरा था। तोड़ कर बंदिशें मिल ही गये दिल। अब ये ना पूछों अंधेरा कितना गहरा था।  

आवाज़ दब रही है! 0

आवाज़ दब रही है!

ज़माने के शोर में आवाज़ दब रही है। मांगता है मदद कोई, तो कोई देता है दगा। मतलब भरी इस दुनिया में बेवजहा का सब रहे हैं शोर मचा। दूसरे के दुख पर करते...

सफर में हमराही 0

सफर में हमराही

सफर में हमराही मिले बहोत, ना मिला कोई हमसफर। सफर चलता रहा, राही निकलते रहे। रह गए बस हम ओर सफर।

सुबह-शाम 0

सुबह-शाम

हर सुबह-शाम दिल तेरे लिए रोता है। तेरे पास होने का एहसास होता है। देखता हूँ जिधर आती है नज़र। तेरे एहसास में वो जादू है। तेरा नाम लुखता हूँ वो खुदा होता है।...

प्यार के तूफ़ांन में मौत का इनाम 0

प्यार के तूफ़ांन में मौत का इनाम

ये प्यार का तूफ़ांन भी अजीब पैगाम देता है। किसी का साथ देता है। किसी को बदनाम कारता है। जो फंस गया इस भवर में एक बार उसे मौत इनाम देता है। मोहब्बत के...

एक सफर 0

एक सफर

ज़िन्दगी का सफर है बहुत ही कठिन। सोचा था होगा ये सफर हसींन। आगये हम कहाँ कांटों के दर्मियाँ। ये तो बस चुभते हैं प्यार से इन्हें मतलब कहाँ। सपने जो देखे थे टूट...

बचपन को बचाओ 0

बचपन को बचाओ

बचपन से न करो खिलवाड़। ये मौसम है बेमिसाल। बचपन को तुम न करो बर्बाद। इस पढ़े लिखे समाज में फैल रहा कुविचार। कैसे बताएं, कैसे सिखाएं। इन आँखों के अंधों को मासूमियत कैसे...

आशिक आवारा 0

आशिक आवारा

आवारा बन में फिरता हूँ। दिल की बात हर पल में कहता हूं। जो तू मुझे न मिली में मर जाऊंगा। तेरे अहसास से जिंदा रहता हूँ। आवारा बन में फिरता हूँ। तेरी गली...

आखरी मुलाकात 0

आखरी मुलाकात

शायद के में कमज़ोर पड़ जाता उस आखरी मुलाकात में। दोस्तों वो तो बारिश की मेहरबानी थी जिसने छुपाये आंसूं मेरे।            

नारी है नारी, देवी है नारी 0

नारी है नारी, देवी है नारी

भोली सी सूरत। प्यारी सी मुस्कान। तुम ही तो हो हमारा अभिमान। कमजोर जान जो तुम पर धाक जमाते हैं। असल में वो अपनी कमजोरी छुपाते हैं। ना करो परेशान तुम नारी को। नारी...

Please wait...

Never Miss Any Poetry, Join Our Family

Want to be notified when any New Poetry Published? Enter your email address and name below to be the first to know.