जाने कहाँ चली गयी हो तुम

जाने कहां चली गई हो तुम, मुझसे रूठी हो क्या तुम | बाँवरा बन यह मेरा मन, कुछ कहता है | अश्क आंखों से दर्द सांसों से, बिन रुके बहता है | जाने कहां...