दिन निकल रहा हैं

Shivam Tiwari

Shivam Tiwari

देख निराशा की इन घटाओ को माना सभी डरा करते है तुम ही बताओ हे मनुज ऐसे में वीर क्या किया करते है, हार हार कर लड़ते रहना कायर की पहचान नहीं वीर से लेकर सूरवीर तक सबकी सही पहचान यहीं घूम रहे जो मूर्ख बनाते, पहने कुर्ता खादी की रोक नहीं सकते कोई भी 'सुवास' राष्ट्र की आज़ादी की। 'सुवास'

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please wait...

Never Miss Any Poetry, Join Our Family

Want to be notified when any New Poetry Published? Enter your email address and name below to be the first to know.